www.apnivani.com ...

Saturday, 3 December 2011

झूठी मुहब्बत

हमारा घर भी जला दो जो रौशनी कम हो,
हमारी झूठी मुहब्बत की बानगी कम हो।

अगर ग़रीबों की करनी है सेवा, ये तभी हो
सकेगा जब ख़ुदा-ईश्वर की बंदगी कम हो।

पड़ोसी ,दोस्ती के बीज़ गर न रोपे तो,
हमारे खेतों से क्यूं फ़स्ले दुश्मनी कम हो।

मिले न राधा तो सलमा से ना ग़ुरेज़ करो,
कि बेवफ़ाओं की गलियों की चाकरी कम हो।

कभी संवारा करो ज़ुल्फ़ों को सरेबाज़ार,
तराजुओं के इरादों की गड़बड़ी कम हो।

उतार दूं तेरी आंखों के दरिया में कश्ती,
तेरी ज़फ़ाओं की गर धरती दलदली कम हो।

उंचे दरख़्तों से क्या फ़ायदा मुसाफ़िर को,
किसी के काम न आये वो ज़िन्दगी कम हो।

भले दो घंटे ही हर कर्मचारी काम करे,
मगर ये काम हक़ीक़ी हो काग़जी कम हो।

मिलेगी मन्ज़िलें कुछ देर से सही दानी,
हमेशा जीत की दिल में दरीन्दगी कम हो।

2 comments:

  1. उंचे दरख़्तों से क्या फ़ायदा मुसाफ़िर को,
    किसी के काम न आये वो ज़िन्दगी कम हो।

    बहुत उम्दा सर!

    सादर

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद यशवन्त माथुर साहब।

    ReplyDelete